mirch ki kheti (Hindi me)

Share:
अगर आप मिर्च की खेती करते है और आधुनिक तरीके से मिर्च की खेती करना चाहते है तो आप इसे पूरा पढ़े आपको लाभ जरुर मिलेगा| मिर्च की खेती एसी खेती है जिसको आम आदमी और किसान भाई दोनों लोग कर सकते है, क्युकि mirch ki kheti में कम मेहनत में ज्यादा पैदावार भी हो सकती है|
mirch ki kheti
मिर्च का पौधा

बाजार में मिर्च की कीमत हमेशा बनी रहती है, जैसे की अभी मिर्च की कीमत बाजार में 70-80रुपए किलों है| अगर मिर्च की खेती को थोड़ी वैज्ञानिक तरीके से किया जाये तो बहुत ही अच्छा लाभ मिल सकता है|


मिर्च की खेती की जानकारी

आज एक बार फिर लोग खेती के तरफ वापस लौट रहें है, अगर आप भी मिर्च की खेती करने के बारे में सोच रहे है तो भाई यकीन मानिये आप बिलकुल सही सोच रहें है, क्युकि मिर्च की खेती में कम लागत और समय में ज्यादा समय तक लाभ लिया जा सकता है|

भूमि की तैयारी

किसी भी फसल की खेती से पहले भूमि की जाँच कर लेनी चाहिए, वैसे तो दोमट मिट्टी में मिर्च की खेती का सबसे ज्यादा लाभ होता है, और सबसे पहले खेत को अच्छे है जुतवा लें, खेत को अच्छे से जुतवाने से ये फायदा होगा कि खेत के सरे खर पतवार नष्ट हो जायेंगे और भूमि की उर्वरा शक्ति बनी रहेगी| जुताई में समय ही खेत में आवश्यक खाद का छिडकाव कर लें|

जलवायु

मिर्च का फसल एसा फसल है जो किसी भी मौसम में हो सकता है लेकिन सबसे ज्यादा पैदावार सर्दी के मौसम में होती है, मिर्च के पौधों को शाम को 4 बजे के बाद रोपना चाहिए क्युकि मिर्च के पौधों को अगर धुप में रोपा जाएँ तो फसल मुरझा सकती है|

खाद

कृषिवैज्ञानिक के अनुसार मिर्च की अच्छी फसल के लिए प्रति हेक्टेयर 250 से 300 क्विंटल सड़ी हुए गोबर की खाद 70 किलोग्राम नित्रोजन, 30 किलोग्राम फस्फोरास और 50 किलोग्राम पोटाश मिला देना चाहिए| और ये सब खेत की जुताई के समय ही भूमि में मिला देना चाहिए|

पौधो का रोपण

मिर्च के पौधों को इस प्रकार से रोपें की पौधे का आखरी पत्ता जमीन से लगे, और पौधों के मीच की दुरी कम से कम 40 से 60 सेंटीमीटर रखनी चाहिए और रोपण के 20 से 30 मिनट के बाद पौधों में पानी दें और 4 से 5 दिनों तक सुबह शाम पौधों में पानी देते रहें, इससे पौधे अच्छे से पकड़ लेंगे|

पौधों की सिंचाई

मिर्च की फसल में पौधों की सिंचाई को लेकर बहुत ही सतर्क रहना पड़ता है, क्युकि अगर मिर्च की फसल में पानी न दिया जाये तो पौधो से फल गिराने की सम्भावन बढ़ जाती है और वहीं दूसरी तरफ अगर मिर्च के फसल में पानी रुकने लगा तो पौधों के सड़ने की संभावना भी बढ़ जाती है, इसीलिए मिर्च की खेती के लिए सबसे ज्यादा जरुरी पानी का सही आना जाना है|

किट पतंगो से बचाव

मिर्च के फसल में किट लगने से पौधों की पत्तियां छोटी होने लगती है या फिर पीछे की तरफ मुड जाती है, इसे समय में आपको सही कीटनाशक का छिडकाव करना चाहिए और कुछ  किट तो इसे होते है जिनके लग जाने से पौधे ऊपर से निचे के तरफ सुखाने लगते है तो मेरी राय ये है की जो पौधे इसे कीटों से ग्रसित हो जाये उन्हें जड़ से उखाड़ के अलग फेंक दे , नही तो ये और भी पौधों में फ़ैल जायेंगे|

मिर्च की फसल की खास बात ये है की ये 1-2 साल तक फसल देता रहता है अगर फसल का सही ध्यान दिया जाये तो 5 से 30 महीने तक मिर्च की फसल का लाभ लिया जा सकता है|

उम्मीद है किसान भाईयों को समझ में आ गया होगा अगर कोई दिक्कत या प्रश्न हो तो निचे कमेंट कर के पूछ सकते है|

Read Also

1 comment: